कोरोना से निपटने के लिए वर्चुअल माध्यम से बैठक का किया आयोजन

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़ कुल्लू। उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने कहा कि कोरोना संक्रमण के मामलों ठहराव आने के बाद जिला में पर्यटन तेजी से रफ्तार पकड़ रहा है जो निश्चित तौर से पर्यटन गतिविधियों से जुड़े हजारों लोगों की आर्थिकी को मजबूती प्रदान करेगा। यह बात उपायुक्त आशुतोष गर्ग ने मंगलवार को जिला में कोविड-19 की मौजूदा स्थिति का जायजा लेने तथा भविष्य के लिए किए जा रहे प्रबंधों की समीक्षा करने के लिए वर्चुअल माध्यम से बुलाई गई बैठक की अध्यक्षता करते हुए कही। बैठक में अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी एस.के. पराशर, एसडीएम डाॅ. अमित गुलेरिया, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सुशील चन्द्र उपस्थित रहे जबकि जिला के अन्य सभी एसडीएम, खण्ड चिकित्सा अधिकारी व खण्ड विकास अधिकारी वर्चुअल माध्यम से जुड़े। आशुतोष ने कहा कि जिला में सैलानियांे का स्वागत है, लेकिन इस बात को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि कोरोना वायरस पूरी तरह से समाप्त नहीं हुआ है, बल्कि नये-नये वैरियन्ट के रूप में समाज को परेशान कर रहा है। उन्होंने कहा कि मनाली, अटल टनल, रोहतांग पास, जिभी, गुशैणी, हामटा पीक जैसे जिला के अनेक रमणीक स्थलों पर सैलानियों की भीड़ लग रही है जो एक बार फिर से कोरोना वायरस के प्रसार को न्यौता दे सकती है। किसी भी हालत में एक जगह पर लोगों के जमावड़े को कम करना होगा। इसके लिए उपायुक्त ने सभी एसडीएम को आवश्यक कदम उठाने को कहा। उन्होंने सभी होटलियरों, टैक्सी चालकों व स्थानीय लोगों से भी आग्रह किया कि पर्यटकों को जागरूक करने में सहयोग करें। इस बात के लिए भी उनकी काउंसलिंग की जाए कि कूड़ा-कचरा हर कहीं पर न फैंके, बल्कि इसे एक थैले में रखें और वापिस लौटने पर डस्टविन में डालें। इसके अलावा, नदियों के समीप न जाएं, कभी भी जल स्तर बढ़ सकता है जिसका अंदाजा बाहरी प्रदेशों के पर्यटकों को नहीं होता और कई बार बड़ी घटनाएं हो जाती हैं। उपायुक्त ने कहा कि जिला में तीसरी लहर से निपटने के लिए अभी से तैयारियां आंरभ कर दी गई हैं। क्षेत्रीय अस्पताल में 200 बिस्तरों की क्षमता है और जरूरत पड़ने पर इसे बढ़ाया भी जा सकता है। सभी बिस्तरों के साथ आॅक्सीजन सप्लाई उपलब्ध करवाई गई है। उन्होंने कहा कि 30 स्टाफ नर्सों तथा 20 वार्ड ब्वाय की आउटसोर्स आधार पर नियुक्ति की गई है जो कोविड-19 का ही काम करेंगे। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय अस्पताल में 500 क्षमता का पीएसए प्लांट स्थापित किया जाएगा, जिसके लिये ढांचागत सुविधा प्रदान करने तथा अन्य तैयारियों पर उन्होंने आज ही मुख्य चिकित्सा अधिकारी से रिपोर्ट मांगी है। जिला में कोविड की मौजूदा स्थिति पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी तथा नोडल अधिकारी डाॅ. अतुल ने एक प्रस्तुति के माध्यम से जानकारी दी कि अभी तक जिला में कुल 1,18,755 सैंपल लिए गए हैं। स्वस्थ होने की दर 97 प्रतिशत से अधिक है। एक्टिव मामले 153 हैं जबकि 156 लोगों की अभी तक कोरोना से मृत्यु हुई है। क्षेत्रीय अस्पताल में टाईप-डी आक्सीजन के 420 सिलेण्डर, टाईप-बी के 35 जबकि तीन मैनीफोल्ड सिलेण्डर उपलब्ध हैं। आक्सीजन की जिला में कहीं पर भी कोई कमी नहीं है। उपायुक्त को अवगत करवाया गया कि जिला में गत सोमवार तक कुल 1,86,592 लोगों को वैक्सीन की पहली डोज लग चुकी है जबकि 30,015 लोगों को दूसरी डोज प्रदान कर दी है। इस प्रकार कुल 2,16,607 वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी है। उपायुक्त ने स्वास्थ्य विभाग को जिला में सैंपलिंग बढ़ाने के लिए कहा। उन्होंने कहा कि लोगों को सैंपल लेने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए। इसके लिए उन्होंने पंचायती राज संस्थानों के प्रतिनिधियों व स्वयं सेवी संस्थाओं से भी आग्रह किया है। उन्होंने वैक्सीनेशन में और तेजी लाने की भी अपेक्षा की है। उन्होंने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को वैक्सीन के लिए जागरूक किया जाना चाहिए। हालांकि अनेक केन्द्रों में वैक्सीन के लिए काफी लोेग आ रहे हैं, ऐसे में सामाजिक दूरी के नियमों की पालना को भी सुनिश्चित बनाया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *