छोटाभंगाल में पशुओं को लम्पी वायरस से बचाने के लिए पशु पालन विभाग हुआ सतर्क

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़

खुशी राम ठाकुर, बरोट

लम्पी वायरस का कहर प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में पूरी फैलता जा रहा है वहीँ छोटाभंगाल में भी लम्पी वायरस ने अपने पांव पसारना शुरू कर दिए हैं।

प्राप्त जानकारी के अनुसार छोटाभंगाल की बड़ा ग्रां पंचायत में दर्ज़नों पशु इस लम्पी वायरस की चपेट में आ गए हैं।

इस वायरस के पत्ता चलते ही पशुपालन विभाग पूरी तरह सतर्क हो गया और पशुओं की पूरी तरह जांच करनी शुरू कर दी।

पशु पालन विभाग पशु चिकित्सालय लोहारडी के डाक्टर इंद्र जीत सिंह सोनी का कहना है कि उन्होंने वेटनरी डिस्पेंसरी बड़ाग्रां के फार्मासिस्ट विनय कुमार सहित बड़ा ग्रां में इस वायरस की चपेट में आए दर्ज़नों पशुओं को एंटीवायटिक के टीके लगाए जा रहे हैं जिस कारण अब यह वायरस लगभग 75 से 80 प्रतिशत कम हो गया है।

आसपास वाले गाँव के पशुओं को यह लम्पी वायरस न फैले उसके लिए गाँव नलहौता के 115 पशुओं को क्षेत्र में स्थित वेटनरी डिस्पेंसरियों के फार्मासिस्टों कृष्ण कुमार तथा किरना देवी द्वारा लम्पी वायरस की पहली वैक्सीन लगाई गई है।

डाक्टर इंद्र सिंह सोनी ने बताया कि बड़ा ग्रां व नलहौता गाँव की गौशाला में विभाग द्वारा किट नाशक दवाई की भी स्प्रे की गई।

घाटी के अन्य पंचायत प्रधानों को भी आगाह किया गया है कि विभाग द्वारा दी जाने वाली कीट नाशक दवाई की अपनी पंचायतों के हर गौशाला के अंदर स्प्रे करें ताकि इस लम्पी वायरस से पूरी तरह निजात मिल सके।

उन्होंने पंचायत प्रतिनिधियों को सुझाव दिया की अपने पशुओं को गाँवों से दूसरे गाँवों में न छोड़े क्योंकि यह संक्रमण वायरस है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *