देश के समग्र विकास के लिए पर्यटन क्षेत्र का अभूतपूर्व योगदान-प्रो सत प्रकाश बंसल

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़ ब्यूरो 

मनाली, कुल्लू 

चार दिवसीय 12वीं अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन के समापन समारोह में हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो सत प्रकाश बंसल मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद रहे। पंजाब विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो राज कुमार विशेष अतिथि रहे।

हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय और इंडियन टूरिज्म हॉस्पिटैलिटी कांग्रेस के  संयुक्त तत्वावधान में आयोजित 12 वीं अंतर्राष्ट्रीय कॉन्फ्रेंस का समापन हिमालय वेगा बॉन्ड रायसन मनाली में हुआ।

समापन समारोह के मुख्यातिथि प्रो सत प्रकाश बंसल ने कहा कि सम्मेलन में आए सभी शिक्षाविद कॉन्फ्रेंस में सीखी सभी बातों को अपने पाठ्यक्रम में शामिल करेंगे।

उन्होंने कहा कि अगले वर्ष भारत में आयोजित होने में G 20 सम्मेलन से पहले आईटीएचसी  देश के  विभिन्न विश्वविद्यालयों में कॉन्फ्रेंस आयोजित करके एक रिपोर्ट केंद्र सरकार को देश के पर्यटन के संदर्भ में भेजेगी।

सीयू कुलपति ने कहा कि आईटीएचसी द्वारा हर वर्ष पर्यटन के क्षेत्र में सर्वश्रेष्ठ युवा शोध पत्र लिखने वाले शोधकर्ता और सर्वश्रेष्ठ थीसिस लिखने वाले शोधकर्ता को सम्मानित किया जाएगा।

कार्यक्रम के विशेष अतिथि पीयू कुलपति प्रो राज कुमार ने कहा कि इस तरह के अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलनों का फायदा सीधे तौर पर स्थानीय लोगों और विद्यार्थियों को मिलता है। साथ ही उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में शांति की दृष्टि से पर्यटन को बढ़ावा मिलना चाहिए।

हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय में पर्यटन विभाग के डीन प्रो सुमन शर्मा ने जानकारी देते हुए बताया कि इस कांफ्रेंस में हिमालय वेगा बॉन्ड के सदस्यों को भी सम्मानित किया जिन्होंने कोरोना महामारी की फर्स्ट वेव लगभग 1500 लोगों को रहने व खान पान की सुविधा प्राप्त करवाई।

इस दौरान चार दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में आए प्रतिभागियों में सर्वश्रेष्ठ युवा शोधकर्ता का पुरस्कार पांडिचेरी विश्वविद्यालय के शोधकर्ता दाम्मू विश्वास इवान श्रीकर और  सर्वश्रेष्ठ युवा शिक्षक का पुरस्कार  कलचिंग महाविद्यालय मणिपुर के सहायक प्राध्यापक निचिंता वायकॉम को दिया गया।

कार्यक्रम के दौरान प्रोफेसर प्रशांत गौतम ने 12 वीं ITHC अंतर्राष्ट्रीय कांफ्रेंस की रिपोर्ट पढ़ी। कार्यक्रम के अंत में हिमाचल प्रदेश केंद्रीय विश्वविद्यालय के पर्यटन विभाग के विभागाध्यक्ष प्रोफेसर आशीष नाग ने सभी शिक्षकों और शोधकर्ताओं का धन्यवाद किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *