मुख्यमंत्री 21 को करेंगे कुल्लू कार्निवाल का शुभारंभ-गोविंद ठाकुर

इस खबर को सुनें

पूजा ठाकुर कुल्लू। ऐतिहासिक ढालपुर मैदान में पहली बार आयोजित किये जाने वाले कुल्लू कार्निवाल का मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर 21 मार्च को सांय 7 बजे विधिवत उद्घाटन करेंगे। शिक्षा व कला, भाषा एवं संस्कृति मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने आज जिला परिषद सभागार में कार्निवाल के आयोजन को लेकर बुलाई गई बैठक की अध्यक्षता करते बताया कि मुख्यमंत्री दोपहर दो बजे कुल्लू पहुंच जाएंगे। वह सर्वप्रथम ढालपुर मैदान में शिल्प बाजार का निरीक्षण व अवलोकन करेंगे। इसके पश्चात सरवरी बस अड्डे सहित विभिन्न परियोजनाओं के उद्घाटन व शिलान्यास करेंगे। मुख्यमंत्री सांय 5 बजे से 6.30 बजे तक परिधि गृह कुल्लू में जन समस्याएं सुनने के लिये उपलब्ध रहेंगे। वह ठीक 7 बजे सांय रथ मैदान में कुल्लू कार्निवाल का शुभारंभ करेंगे तथा फैशन शो व सांस्कृतिक संध्या के साक्षी बनेंगे। गोविंद ठाकुर ने कहा कि कुल्लू कार्निवाल का आयोजन भारत सरकार के वस्त्र मंत्रालय के कुल्लू स्थित हस्तशिल्प कार्यालय, कला, भाषा एवं संस्कृति विभाग तथा जिला प्रशासन के आर्थिक सहयोग से किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि कार्निवाल 10 दिनों तक चलेगा। हालांकि सांस्कृतिक संध्याएं 28 मार्च तक आयोजित की जाएंगी।

सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन होगे मुख्य आकर्षण

कार्निवाल के दौरान आयोजित किये जाने वाले कार्यक्रमों के बारे में उपायुक्त आशुतोष ने जानकारी देते हुए बताया कि पहले दिन 21 मार्च को सांय सात बजे रथ मैदान में पारम्परिक परिधानों में फैशन शो होगा। इसके अलावा सूर्य सांस्कृतिक दल बनोगी तथा जनजातीय जिला किन्नौर का लोक नृत्य होगा। नरेन्द्र ठाकुर इस दिन स्टार कलाकार होंगे। दूसरे दिन 22 मार्च को अटल सदन में पुनः फैशन शो होगा। संवाद युवा मण्डल मण्डी द्वारा नाटक, लोक नाटक हॉरन, लोक वाद्य यंत्र कुपवी का प्रदर्शन होगा। स्टार कलाकार मण्डी की ममता भरद्वाज होंगी। कार्निवाल के तीसरे दिन 23 मार्च को एक्टिव मोनाल कल्चर एसोसियेशन द्वारा नाटक का मंचन, लोक वाद्य दल लाहौल स्पिति के वाद्य यंत्र प्रस्तुति, हिमाचल एंटरटेनमेन्ट टीवी यू ट्यूबर मण्डी की प्रस्तुति, वंशिका युवा सांस्कृतिक दल कांगड़ा की प्रस्तुति व चम्बा की रोशन एवं पार्टी का मुसाधा गायन होगा। शिमला के नरेन्द्र रंजन स्टाकर कलाकार होंगे। 24 मार्च को सोलन थियेटर ग्रुप, लयूल सुर संगम लाहौल-स्पिति, वाद्ययंत्र वादन कुल्लू, किशन वर्मा लोक गायक शिमला, चम्बा का कुंजडी मल्हार के अलावा स्टार कलाकारों में कुल्लू की खुशबू तथा दीपक जनदेवा लोगों का मनोरंजन करेंगे। 25 मार्च को नाटक का मंचन पालमपुर के कलाकारों द्वारा, लक्षमी डांस ग्रुप बिलासपुर, वाद्ययंत्र वादन मण्डी, टविंकल लोक गायिक कुल्लू, करियाला स्वर संगम कला मंच शिमला तथा पायल ठाकुर बतौर स्टार गायिका जनसमूह को मनोरंजन करेंगी। 26 मार्च को पहाड़ी कवि सम्मेलन, नाटय श्रेष्ठ भुंतर का नाटक, वाद्ययंत्र ठियोग, चम्बा का सरस्वती लोक कला संगम, लोक गायिका बिलासपुर मनसा पंडित की प्रस्तुति होगी। इस दिन स्टार कलाकार शिमला के कुलदीप शर्मा होंगे। 27 मार्च को हिमाचल सांस्कृतिक शोध संस्थान मण्डी द्वारा नाटक मंचन, मुसादा गायन अवतार एण्ड पार्टी चम्बा, पारम्परिक लोक नृत्य दल सिरमौर की प्रस्तुति के बाद लोक गायक ठाकुर दास राठी व रोशनी शर्मा श्रोताओं का मनोरंजन करेंगी। अंतिम संध्या 28 मार्च को मण्डी युनाईटेड थियेटर द्वारा नाटक मंचन, माण्डव्य कला मंच मण्डी का लोक नृत्य, लाहौल की मशहूर गायिका रोजी शर्मा, कुल्लू के गोपाल शर्मा तथा रमेश ठाकुर दर्शकों का मनोरंजन करेंगे।

अन्य आकर्षक गतिविधियों को जोड़ा जाएगा

शिक्षा मंत्री गोविंद ठाकुर ने कार्निवाल को आकर्षक बनाने के लिये उपस्थित जन प्रतिनिधियों के सुझाव लिये। उन्होंने कहा कि कार्निवाल में आस-पास की पंचायतों की महिलाओं की पट्टु परिधान में नाटियो को शामिल किया जाना चाहिए। कार्निवाल को बड़े पैमाने पर मनाने के लिये जिला के समस्त चुने हुए प्रतिनिधियों, महिला व युवक मण्डलों तथा आम लोगों को इसमें सक्रिय भागीदारी सुनिश्चित करने की आवश्यकता है। उन्होंने यह भी संकेत दिया कि कार्निवाल को आगामी वर्षों में नियमित तौर पर आयोजित करने पर विचार किया जाएगा तथा कार्निवाल में महिलाओं की अधिक से अधिक भागीदारी के लिये खेलों का आयोजन किया जाना चाहिए।

हस्तशिल्प, पारम्परिक व्यंजन तथा तंबोला स्टाल होंगे लाजबाब

उपायुक्त ने मंत्री को अवगत करवाया कि कार्निवाल में हिमाचल प्रदेश के विभिन्न जिलों के अलावा देश के अलग-अलग राज्यों के 100 से अधिक शिल्प स्टाल लगेंगे। स्थानीय स्वयं सहायता समूहों के लिये भी 20 स्टाल लगाए जाएंगे। इसके अलावा कुल्लू तथा प्रदेश के अन्य जिलों के पारम्परिक व्यंजनों को प्रोत्साहित करने के लिये 25 स्टॉल स्थापित किये जा रहे हैं। इस दौरान वॉलीबाल तथा टग ऑफ वार खेलों के अलावा तम्बोला का भी दस दिनों तक आयोजन किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *