जिला कांगड़ा के छोटा भंगाल तथा बड़ा भंगाल के लोग गत 25 वर्षों से जनजातीय आरक्षण की कर रहे मांग

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़

खुशी राम ठाकुर, बरोट

आजकल प्रदेश में सिरमौर जिले के हाटी सामुदाय की जनजातीय आरक्षण की मांग चली हुई है। चुनाव अचार संहिता लग जाने से पूर्व इसकी घोषणा होने की पूरी संभावना बन गई है। जिला कांगड़ा के छोटा भंगाल तथा बड़ा भंगाल घाटी के लोगों की भी गत 25 वर्षों से आरक्षण की मांग कर रही है परन्तु सरकार दोनों क्षेत्रों के लोंगो की मांग को अनदेखा अन्देह्हा कर रही है जो कि बिलकुल जायज है। लोआई पंचायत के पूर्व उपप्रधान हरि चंद ने कहा कि इन दोनों क्षेत्रों का विकास जनजातीय आरक्षण के बिना संभव ही नहीं है। यहाँ एक उपचुनाव प्रचार के लिए आए ठाकुर जय राम ने भी इसकी पुष्टि करते हुए कहा था कि उन्हें मौक़ा मिला तो इसके बारे में अवश्य ही प्रयास किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मूल भूत सुविधाओं की कमी से जूझ रहे इन दुर्गम घाटियों के लोग ज्यादातर सड़क व संचार सुविधा से वंचित है। छोटा भंगाल में एक आईटीआई प्रशिक्षण केन्द्र का खोलना बेहद आवश्यक है। जिसमें विभिन्न प्रकार के कोर्स कर स्थानीय बच्चों को रोज़गार की संभावना ज्यादा रहेगी। हरि चंद ने कहा कि दोनों क्षेत्रों को प्राकृतिक सोंदर्य के साथ मनोरंम व अति सुंदर स्वरूप दे रखा है अगर पर्यटन की दृष्टि से भी इन घाटियों को विकसित कर दें तो बेरोज़गार युवाओं को रोज़गार की अपार संभवना है। छोटा व बड़ा भंगाल में पर्वतारोहण की अपार सम्भावनाएं मौजूद है जिसके चलते सरकार इसमें भी सहयोग करें तो स्थानीय लोगों को रोज़गार के अवसर प्राप्त होंगे। हरि चंद ने सरकार से लोहारडी, कोठी कोहड़, बड़ा ग्रां, राजगुन्धा सहित बीड-विलिंग में आवासीय परिसर बनाएं जाने की मांग उठाते हुए घाटियों में सड़क के जीर्णोद्वार की भी जोरदार मांग की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *