छोटाभंगाल की सात पंचायतों को एक एम्बुलेंस नहीं दे पाई भाजपा सरकार

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़

खुशी राम ठाकुर, बरोट

छोटाभंगाल के समस्त लोगों की कई वर्षों से एम्बुलेंस की मांग चली आ रही है। जिला परिषद सदस्य पवना देवी ने बताया कि सरकार तथा प्रशासन से एक एम्बुलेंस की  की मांग दो वर्षों  से करती आ रही है।

उनके इस प्रस्ताव को मंजूर कर दिया गया था मगर अब दो वर्षों बाद घाटी के लिए एम्बुलेंस को प्रदान करने में सरकार आनाकानी की जा रही है।

पवना देवी ने बताया कि प्रशासन तथा सरकार द्वारा यह प्रतिक्रिया की जा रही है कि इस एम्बुलेंस के लिए आपकी ओर से चालक उपलब्ध ही नहीं किया है और जब तक चालक उपलब्ध नहीं किया जाता तब तक घाटी के लिए एम्बुलेंस उपलब्ध ही नहीं हो सकेगी।

उनके कहने के अनुसार जनकल्याण संस्था के माध्यम से चालक भी उपलब्ध करवा दिया गया। इतना सब कुछ करने के बावजूद भी सरकार तथा प्रशासन एम्बूलेंस देने के लिए आनाकानी कर रही है।

जिस कारण जिला परिषद सदस्य पवना देवी, जन कल्याण सभा के प्रदेशाध्यक्ष चुनी लाल तथा घाटी के समस्त लोग सरकार तथा प्रशासन से बेहद खफा हैं।

पवना देवी ने सरकार तथा प्रशासन के ऊपर आरोप लगाया है कि इस दुर्गम घाटी के साथ बड़ा ग्रां, कोठी कोहड़, धरमाण, मुल्थान, लोआई, स्वाड़ तथा पोलिंग की सात पंचायतों के साथ सौतेला ब्यवहार कर रही है। इस  पिछड़े क्षेत्र के साथ इससे बड़ी बिडम्बना और क्या हो सकती है।

उन्होंने कहा कि घाटी के एक छोर कोठी कोहड़ तथा दूसरे छोर लोहारडी में प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र पड़ता हैं और इन स्वास्थय केन्द्रों की आपस की दूरी लगभग 20 किलोमीटर की बनती है।

जिला परिषद सदस्य पवना देवी ने कहा कि सरकार तथा प्रशासन उन्हें दो वर्षों से झुठा आश्वासन देता आ रहा। इस घाटी के लिए एम्बूलेंस उपलब्ध न होने से घाटी के बीमार लोगों को दूसरे जिला की चौहार घाटी के बरोट में स्थित सामुदायिक स्वास्थय केन्द्र की सरकारी एम्बुलेंस का सहारा लेना पड़ रहा है। एसे में घाटी के लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

पवना देवी ने कहा कि गत वर्ष घाटी के मुल्थान में एक विशेष कार्यक्रम में आए मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी सार्वजनिक मंच में इस घाटी के लिए एम्बुलेंस देने की घोषणा की थी मगर उनकी घोषणा भी मात्र घोषणा तक ही सिमट कर रह गई है।

गत दो वर्ष के कोरोना काल में कई लोग एम्बुलेंस की सुविधा न होने के कारण बिना मौत के मारे गए। अगर घाटी में एम्बूलेंस सुविधा होती तो शायद उन लोगों की जान बच सकती थी।

उन्होंने कहा कि इस घाटी के लिए जिस एम्बूलेंस के लिए ऑर्डर दे रखा है वह अभी भी टाटा शोरूम में ही खड़ी हुई है जिसकी सरकार अभी तक कीमत ही नहीं चुका पायी है।

पवना देवी सहित जनकल्याण संस्था के प्रदेशाध्यक्ष चुनी लाल ने सरकार तथा प्रसाशन को चेताया है कि अगर हाल ही में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले इस घाटी में एम्बूलेंस नहीं दी गई तो घाटी के हज़ारों लोगों सहित सरकार तथा प्रशासन के विरुद्ध सड़क पर उतरने पर मजबूर होना पड़ेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *