वर्षाशालिकाएं न होने के कारण लोगों तथा पर्यटकों को गर्मी, शर्दी व बरसात में करना पड़ रहा भारी परेशानी का सामना

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़ बारोट

खुशी राम ठाकुर

चौहार घाटी का बरोट सन 1970 के लगभग यातायात सुविधा से जुड़ा है। बरोट कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष व समाज सेवक रामसरन चौहान ने जानकारी देते हुए बताया कि घटासणी से बरोट  25 किलोमीटर सड़क मार्ग में मात्र घटासनी, फियूंण गलू तथा बरोट बस ठहराव में तीन ही वर्षाशालिकाएं है तथा छोटाभंगाल के मुल्थान से लोहारडी छः किलोमीटर सड़क मार्ग में मात्र एक लोआई में बस ठहराव है। मुल्थान से बड़ाग्रां 16 किलोमीटर सड़क मार्ग के बीच मुल्थान, दोपन तथा चेलरा दी मलाह में तीन ही वर्षाशालिका स्थापित है। इन सड़क मार्गों में बहुत बस ठहराव है परन्तु वर्षाशालिकाएं न मात्र होने के कारण स्थानीय लोगों तथा पर्यटकों को गर्मी, शर्दी व बरसात में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। उन्होंने कहा कि बस ठहरावों में वर्षाशालिका न होने से यात्रियों को गर्मियों में झुलसना, बरसात में भीगना  व सर्दियों में खुले आसमान के तले ठिठुरते हुए बसों का इंतज़ार करना पड़ता है। चौहर घाटी एवं छोटाभंगाल दोनों क्षेत्र के पूर्व व वर्तमान पंचायत प्रतिनीधियों ने लम्बे समय से कई बार सरकार व सम्बन्धित विभाग के समक्ष बस ठहरावों में वर्षाशालिका बनवाने कि मांग उठाते आ रहे है  मगर अब तक किसी भी सरकार व विभाग ने इस समस्या के बारें में नहीं सोचा। इस मांग के प्रति स्थानीय लोगों का प्रदेश सरकार व लोकनिर्माण विभाग के प्रति गहरा रोष व्याप्त है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *