तीर्थन घाटी में दिले राम शबाब मेमोरियल क्रिकेट कप 2024 सीजन-1 हुआ समापन समारोह

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़

परस राम भारती, बंजार

जिला कुल्लू की तीर्थन घाटी में बंजार विधानसभा क्षेत्र से पूर्व में विधायक रहे शेरे सराज के नाम से मशहूर, प्रकृति के सजग प्रहरी एवं लेखक स्वर्गीय दिले राम शबाब की याद में यहां के स्थानीय युवाओं एवं संस्थाओ द्वारा नागनी खेल मैदान में 15 मार्च से दिले राम शबाब मेमोरियल कप 2024 सीजन-1 क्रिकेट प्रतियोगिता का आगाज किया हुआ था। पंचायत स्तरीय इस क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन तीर्थन संरक्षण एवं पर्यटन विकास एसोसिएशन तथा स्पोर्टस टूरिज्म एंड कल्चरल इवेंट मैनेजमेंट एसोसिएशन नागणी के संयुक्त तत्वाधान से किया गया।

करीब एक माह तक चली इस मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता का आज विधिवत रूप से समापन हो गया है। प्रतियोगिता में पुरष वर्ग से 60 और महिला वर्ग से 12 टीमों ने हिस्सा लिया है। इस प्रतियोगिता के समापन अवसर पर बंजार विधान सभा क्षेत्र के विधायक सुरेन्द्र शौरी बतौर मुख्य अतिथि उपस्थित रहे है। इस अवसर पर जिभी घाटी पर्यटन विकास संघ के मुख्य सचिव ललित कुमार, जिभी घाटी पर्यटन विकास संघ के उपाध्यक्ष हंस राज, पेंशनर संघ खण्ड बंजार के अध्यक्ष जंगवीर मियां, पर्यटन कारोबारी एवं समाजसेवी खेम भारती, महेन्द्र विष्ट और इन्दिरा देवी आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे। स्थानीय लोगों व आयोजकों द्वारा मुख्य अतिथि का पारंपरिक तरीके से स्वागत और स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। मुख्यातिथि द्वारा विजेता और उपविजेता टीम को बधाई दी तथा स्थानीय युवाओं और आयोजकों के प्रयासों की सराहना की है। इन्होंने विजेता व उपविजेता टीमों के साथ प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों को पुरस्कार भी बांटे।

इस प्रतियोगिता की खास बात यह रही कि इसमें महिला क्रिकेट प्रेमियों ने भी बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और अपना दमखम आजमाया। इस दौरान कई कड़े और रोमांचक मुकाबलों के बाद आज इस प्रतियोगिता का फाइनल मैच लक्ष्मी नारायण वैली कलवारी और द गेम चेंजर तीर्थन के बीच में खेला गया। जिसमें द गेम चेंजर तीर्थन टीम विजेता और लक्ष्मी नारायण वैली कलवारी उप विजेता रही। वहीं महिला वर्ग में शेष नाग इलेवन शिल्ली की टीम विजेता और
चैहनी वॉरियर की टीम उप विजेता बनी। महिलाओं की रस्साकसी प्रतियोगिता में लक्ष्मी नारायण दाड़ी की टीम प्रथम और महिला मण्डल नागनी की टीम दुसरे स्थान पर रही।

इस मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों में सुरज मन को मैन ऑफ द मैच, रिंकु को मैन ऑफ द सीरीज और बेस्ट बैट्समैन, देव राज को बेस्ट कीपर, बॉनी यश को बेस्ट गेंदबाज, चेतन ठाकुर, ओम प्रकाश को बेस्ट अंपायर, तरुण को बेस्ट फोटोग्राफी, सप्पू और चरण ठाकुर को बेस्ट कमेंटेटर, कमला देवी को बेस्ट कोऑपरेशन के लिए स्मृती चिन्ह देकर सम्मानित किया गया है।

विधायक सुरेन्द्र शौरी ने स्वर्गीय दिले राम शबाब की यादों को संजोए रखने के लिए करवाई जा रही इस मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता के आयोजन हेतु यहां के युवाओं द्वारा की गई पहल और प्रयासों की सराहना की है। इन्होंने कहा कि स्वर्गीय दिले राम शबाब जिला कुल्लू की समूची सराज घाटी की शान थे। आज तीर्थन घाटी में ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क और पर्यटन उन्हीं की देन है। इन्होंने कहा कि ग्रामीण स्तर पर इस प्रकार की क्रिकेट स्पर्धा का आयोजन होने से गांव स्तर के खिलाड़ियों की छिपी हुई प्रतिभा निखर कर सामने आती है। इन्होंने युवाओं को नशे से दूर रहते हुए खेलों को खेल भावना से खेलने का भी आह्वान किया है। इस अवसर पर मुख्य अतिथि द्वारा आयोजकों के लिए पच्चीस हजार रुपए और लक्ष्मी महिला मण्डल दाड़ी को भी पच्चीस हजार रुपए देने की भी घोषणा की है।

इस मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता के मुख्य आयोजक गोविन्द सोनू ठाकुर ने कहा कि स्वर्गीय दिले राम शबाब की याद में स्थानीय युवाओं और संस्थाओं द्वारा क्रिकेट प्रतियोगिता करवाने का निर्णय लिया है, जिसकी शुरुआत इसी वर्ष की गई है। इन्होंने बताया कि इनकी यादों को संजोए रखने के लिए भविष्य में भी हर वर्ष इस मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन होता रहेगा। इन्होंने इस कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु सभी साथियों का आभार प्रकट किया है।

गौरतलब है कि बंजार विधानसभा क्षेत्र से उच्च शिक्षित नेता, प्रकृति चिंतक, लेखक एवं सामाजिक कार्यकर्ता स्वर्गीय दिले राम शबाब 1967 से लेकर 1977 तक लगातार दो बार विधायक रह चुके है, जो शेरे सराज के नाम से मशहूर है। इनकी दूरदर्शी सोच के कारण ही आज तीर्थन घाटी में पर्यटन कारोबार फल फूल रहा है। यदि दिले राम शबाब न होते तो शायद आज तीर्थन नदी पर कई हाइडल प्रोजेक्ट बनकर तैयार हो जाते। इस घाटी को प्रोजेक्ट से बचाने के लिए इन्होंने सरकार से लेकर अदालत तक बहुत लंबी लड़ाई लड़ी है। आज तीर्थन घाटी में ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क भी उनकी ही दूरदर्शी सोच का नतीजा है। दिले राम शबाब लेखन में भी गहरी रुचि रखते थे जिनकी कई पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है। वर्ष 2018 में वह अपनी सांसारिक यात्रा पूरी करके स्वर्ग सिधार गए।

स्थानीय युवाओं द्वारा इनकी यादों को संजोए रखने के लिए हर वर्ष दिले राम शबाब मेमोरियल कप क्रिकेट प्रतियोगिता के आयोजन का निर्णय लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *