कोरोना बहुरूपिया बना कुल्लू के लोगों के लिए आकर्षण, मनोरंजन के साथ-साथ कर रहे हैं कोरोना नियमों का पालन

इस खबर को सुनें

सुरभि न्यूज़ कुल्लू। जिसके घर में हो शादी, न बुलाए वो पूरी आबादी, शादी में हो 20 ही लोग, तो ही दूर रहेगा कोरोना रोग। जिला प्रशासन द्वारा सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के माध्यम से चलाए जा रहे जन जागरूकता अभियान के दौरान स्थानीय मन्नतत कला मंच के कलाकारों ने कोरोना बहुरूपिया भेष में आज कुल्लू नगर के अखाड़ा बाजार, हनुमानी बाग, तिब्तियन मार्किट तथा रामशिला में लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए उपयोग किए जाने वाले तौर-तरीकों व उपायों के प्रति जागरूक किया। यह संदेश इन कलाकारों द्वारा कोरोना भूत बनकर लाउडस्पीकरों से अनाउंसमैंट के जरिए लोगों को हर दुकान तथा गली में दिया । लोगों को दो गज की सामाजिक दूरी के साथ मास्क लगाने के तौर-तरीकों बारे में विशेष तौर पर जागरूक किया जा रहा है। सामाजिक समारोहों में सरकार द्वारा निर्धारित क्षमता से अधिक लोगों को शामिल न करने की सलाह दी जा रही है। कोरोना का संकट अभी तक टला नही है। लोगों से नियमित रूप से एहतियात बरतने, परिवार में छोटे बच्चों, बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं का विशेष ध्यान रखने को कहा गया। लोगों से घर से बाहर निकलने पर अपने चेहरे को मास्क से सही रूप से ढकने तथा अनावश्यक भीड़ नहीं लगाने और भीड़ से बचने की अपील की जा रही है। अखाड़ा बाजार के निवासी जसपाल सिंह ने कहा कि लोगों तक कोरोना महामारी के उपायों का संदेश पहुंचाने का यह नायाब तरीका है। बहुरूपिया को देखने तथा स्थानीय बोली में उसकी बातों को सुनने के लिए लोग बाजारों यहां तक कि अपने घरों की खिड़कियों में खड़े हो जाते हैं। यह मनोरंजन के साथ-साथ जागरूकता फैलाना का पारम्परिक लेकिन बड़ा ही आकर्षक ढंग है। इसी प्रकार, गीत-संगीत कलामंच बंजार के कलाकारों द्वारा कोरोना मदारी के भेष में बंजार नगर के सब्जी मंडी, न्यू बस स्टैंड, दमोठी, खुंदन, सिधमा तथा सराई में भी लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर अति सतर्कता तथा सावधानी बरतनेे की अपील की। लोगों ने मोबाईल, टीवी, और शोशल मीडिया से अलग हटकर पारम्परिक तरीकों को अपनाकर लोक संवाद के माध्यम से चललाए जा रहे इस जन जागरूकता अभियान की सरहाना की। लोगों ने कहा कि आम आदमी को संदेश संप्रेषण के लिए यह माध्यम प्रभावशाली है। लोगों ने जागरूकता अभियान को लाॅकडाउन के खुलने वाले समय के दौरान लोगों को जानकारी व जागरूकता प्रदान करने को महत्वपूर्ण बताया ताकि सामाजिक दूरी बनाए रखने और मास्क लगाने के नियम के प्रति किसी प्रकार की ढिलाई देखने को न मिले। ई-संजीवनी ओपीडी सेवाओं का उपयोग करने के लिए ई-संजीवनी ओपीडी ऐप डाउनलोड कर इंस्टाॅल करें। इसके माध्यम से जरूरत पड़ने पर डाॅक्टर से संपर्क कर सकते हैं। बुखार महसूस होने पर स्वास्थ्य परीक्षण जरूर करें तथा दिन में कम से कम दो बार थर्मामीटर से अपना तापमान जांचें। डाॅक्टर की सलाह के अनुसार दवाई नियमित रूप से लें। मरीज अगर किसी अन्य बीमारी की दवाई लेता है तो, डाॅक्टर का परामर्श जरूर लें। अपनी दिनचर्या में योग तथा व्यायाम को आवश्यक रूप से शामिल करें। उधर, उपायुक्त डाॅ. ऋचा वर्मा ने कहा कि जिला प्रशासन सदैव जिलावासियों की सेवा व सहायता के लिए तत्पर है। उन्होंने कहा कि जन सहयोग तथा सजगता कोरोना संक्रमण को अधिक फैलने से रोकने में कारगर सिद्ध हो रही है, तथापि अधिक सावधानी बरतने की जरूरत है। लोगों को होम आईसोलेशन की स्वयं सहायता पुस्तिका तथा कैलेंडर भी वितरित किए जा रहे हैं ताकि वह होम आईसोलेशन के दौरान स्वास्थ्य सम्बंधी उपयोगी जानकारियों को अपनाकर शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकें और अपने परिवार के अन्य सदस्यों का कोरोना संक्रमण से बचाव कर सकें। ऋचा वर्मा ने कहा कि कोरोना कफ्र्यू के नियमों की अनुपालना के कारण जिला में पाॅजिटिव मामलों में लगातार गिरावट आ रही है और स्थिति संतोषजनक है। हालांकि कोरोना वायरस समाप्त नहीं हुआ है। यह समाज में पूरी तरह से मौजूद है और थोड़ी सी असावधानी पर व्यक्ति को संक्रमित कर सकता है। उन्होंने लोगांें से अपील की है कि मास्क का अच्छे से प्रयोग करें और अनावश्यक बाजारों में न आएं। कोरोना की चेन को तोड़ने में हर व्यक्ति का समान योगदान जरूरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *